22 February 2024

10 Amazing Dhauti Kriya | Benefits | Types | 2023

0

Introduction:

विविध संस्कृतियों की प्राचीन प्रथाएँ अपने महत्वपूर्ण लाभों के कारण समग्र उपचार के क्षेत्र में हमारी रुचि को आकर्षित करती रहती हैं। Dhauti Kriya, शास्त्रीय योग शिक्षाओं पर आधारित एक शुद्धिकरण प्रक्रिया, एक ऐसा अभ्यास है। धौति क्रिया हठ योग की छह शुद्धिकरण तकनीकों में से एक है जिसका उद्देश्य शरीर और मानस को शुद्ध करना है। यह विस्तृत ट्यूटोरियल Dhauti Kriya के बारे में गहराई से बताता है, इसके विभिन्न प्रकारों और संपूर्ण कल्याण के लिए इससे मिलने वाले असंख्य लाभों को उजागर करता है।

What Is Dhauti kriya

Dhauti Kriya, जिसे अक्सर “पाचन तंत्र की सफाई” के रूप में जाना जाता है, में संचित विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने के लिए शरीर के कुछ हिस्सों को शुद्ध करना शामिल है। यह तकनीक इस विचार पर आधारित है कि शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए स्वच्छ और संतुलित शरीर की आवश्यकता होती है। धौति क्रिया शरीर और मन के बीच संबंध पर भी प्रकाश डालती है, दोनों स्तरों पर स्वच्छता के महत्व पर जोर देती है।

Types Of Dhauti Kriya

वामन धौति (कुंजल क्रिया): वामन धौति से ऊपरी पाचन तंत्र और पेट साफ हो जाता है। इसमें अतिरिक्त बलगम, विषाक्त पदार्थों और बिना पचे भोजन को साफ करने के लिए बड़ी मात्रा में खारा पानी पीना और उसके बाद उल्टी करना शामिल है। यह प्रक्रिया न केवल पेट को साफ करती है बल्कि अपच और एसिडिटी जैसी बीमारियों से भी राहत दिलाने में मदद करती है।

 

 

डंडा धौति: इस तकनीक में एक पतली, लचीली लकड़ी की छड़ी से अन्नप्रणाली को साफ करना शामिल है। किसी भी रुकावट, जहर या एकत्रित अपशिष्ट को खत्म करने के लिए, छड़ी को गले में नाजुक ढंग से रखा जाता है। यह अभ्यास श्वसन और आंतों की समस्याओं की रोकथाम में सहायता कर सकता है।

 

वस्त्र धौति एक सफाई तकनीक है जिसमें गीले कपड़े की एक लंबी पट्टी को निगलना और फिर उसे सावधानीपूर्वक बाहर निकालना शामिल है। यह दृष्टिकोण पेट की परत से प्रदूषकों, अतिरिक्त बलगम और विषाक्त पदार्थों को हटाने में सहायता करता है, जिससे पाचन में सुधार होता है और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल असुविधा कम होती है।

vashtra dhauti

अग्निसार धौति: पेट की मांसपेशियों को सिकोड़कर और आराम देकर, अग्निसार धौति पाचन अग्नि या अग्नि को सक्रिय करने पर ध्यान केंद्रित करती है। यह गतिविधि न केवल पाचन में सुधार करती है बल्कि पेट की मांसपेशियों को भी टोन करती है और चयापचय को बढ़ावा देती है।

मूल शोधन (मलाशय की सफाई): यह अभ्यास मलाशय और निचले पाचन तंत्र को साफ करता है। इसमें निचली जठरांत्र प्रणाली की स्वच्छता और स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए एक अद्वितीय जल-आधारित सफाई प्रक्रिया को नियोजित करना शामिल है।

benefits of dhauti kriya

1. Dhauti Kriya पाचन तंत्र से विषाक्त पदार्थों और अशुद्धियों को खत्म करने, स्वस्थ पाचन में सुधार करने और कब्ज, सूजन और अपच जैसी समस्याओं को कम करने में सहायता करती है।

2. विषहरण: धौति क्रिया की कई किस्में संचित अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को खत्म करके पेट, अन्नप्रणाली और मलाशय सहित शरीर के विभिन्न क्षेत्रों को विषहरण करने में मदद करती हैं।

3. Dhauti Kriya ऊपरी श्वसन पथ को साफ करके सांस लेने को बढ़ाने, जमाव से राहत देने और श्वसन संक्रमण के खतरे को कम करने में मदद करती है।

4.तनाव में कमी: धौति क्रिया का मन-शरीर लिंक मानसिक स्पष्टता और विश्राम को बढ़ावा देता है, तनाव को कम करता है और सामान्य भावनात्मक कल्याण को बढ़ावा देता है।

5. बेहतर परिसंचरण: हृदय धौति अभ्यास रक्त परिसंचरण में सुधार करने और स्वस्थ हृदय प्रणाली का समर्थन करने में मदद करता है।

6. पेट की टोनिंग: अग्निसार धौति और हृद Dhauti Kriya जैसी तकनीकें पेट की मांसपेशियों को टोन और विकसित करने में मदद करती हैं।

7. संतुलित मेटाबॉलिज्म: धौति क्रिया के नियमित अभ्यास से मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद मिलती है, जिसके परिणामस्वरूप भोजन का अवशोषण और ऊर्जा का स्तर बढ़ता है।

8. Dhauti Kriya अप्रत्यक्ष रूप से सफाई को प्रोत्साहित करके और पाचन को बढ़ावा देकर स्वस्थ त्वचा की ओर ले जाती है। शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकलने से मुँहासे, एक्जिमा और सुस्ती जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं में कमी आ सकती है। जब पाचन तंत्र ठीक से काम करता है, तो पोषक तत्व बेहतर अवशोषित होते हैं, जिससे त्वचा की उपस्थिति और चमक में सुधार होता है।

9. मानसिक स्पष्टता और फोकस: “आंत-मस्तिष्क अक्ष”, या आंत और मस्तिष्क के बीच का संबंध, मानसिक कल्याण पर पाचन स्वास्थ्य के महत्व पर जोर देता है। धौति क्रिया की विषहरण और शुद्धिकरण प्रक्रियाओं से न केवल शरीर शुद्ध होता है, बल्कि मन भी स्पष्टता और ध्यान केंद्रित करता है। एक स्वच्छ शरीर और स्वस्थ आंत के परिणामस्वरूप कम मानसिक कोहरा और बेहतर संज्ञानात्मक प्रदर्शन हो सकता है।

10. मानसिक स्पष्टता और फोकस: “आंत-मस्तिष्क अक्ष”, या आंत और मस्तिष्क के बीच का संबंध, मानसिक कल्याण पर पाचन स्वास्थ्य के महत्व पर जोर देता है। धौति क्रिया की विषहरण और शुद्धिकरण प्रक्रियाओं से न केवल शरीर शुद्ध होता है, बल्कि मन भी स्पष्टता और ध्यान केंद्रित करता है। एक स्वच्छ शरीर और स्वस्थ आंत के परिणामस्वरूप कम मानसिक कोहरा और बेहतर संज्ञानात्मक प्रदर्शन हो सकता है।

Precautions and Considerations

  • सही तकनीक और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, धौति क्रिया का अध्ययन किसी प्रशिक्षित योग प्रशिक्षक से किया जाना चाहिए।
  • जिन लोगों को अल्सर, हर्निया, हृदय संबंधी समस्याएं या उच्च रक्तचाप है, उन्हें धौति क्रिया की विशिष्ट किस्मों से बचना चाहिए। यह अनुशंसा की जाती है कि आप किसी स्वास्थ्य देखभाल व्यवसायी से परामर्श लें।
  • गर्भवती महिलाओं और पाचन संबंधी बीमारियों से पीड़ित अन्य लोगों को विशेषज्ञ की देखरेख में धौति क्रिया का अभ्यास करना चाहिए या कुछ किस्मों से पूरी तरह बचना चाहिए।

Note: अभ्यास सुबह सबसे पहले खाली पेट किया जाना चाहिए, आदर्श रूप से किसी कुशल प्रशिक्षक की देखरेख में।

 

निष्कर्ष

Dhauti Kriya पारंपरिक योग तकनीकों की एकीकृत समझ का उदाहरण है। इसके असंख्य लाभ हैं जो शरीर के विभिन्न तत्वों को साफ और शुद्ध करके भौतिक दायरे से परे जाते हैं। हालाँकि, धौति क्रिया के लाभों को ठीक से प्राप्त करने के लिए, इसे सम्मान, विवेक और पर्याप्त दिशा के साथ अपनाना महत्वपूर्ण है। हम शारीरिक शुद्धता और मानसिक स्पष्टता के बीच सदियों पुराने संबंध का सम्मान करते हैं क्योंकि हम इस प्राचीन सफाई प्रक्रिया के सिद्धांतों को अपनाते हैं, जो हमारे संपूर्ण कल्याण को बढ़ावा देती है।

 

Read Also: Benefits of Burans flower 2023: बुरांस के हैरान कर देने वाले फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Discover more from उत्तराखंड DISCOVERY

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue Reading

National Cinema Day 2023: Grab Your ₹99 Movie Tickets and Rekindle the Magic of the Silver Screen! The Nun II: Unveiling the Haunting Sequel’s Dark Secrets Jawan Movie Review: Shah Rukh Khan’s ‘Jawan’ Early Reviews: Bollywood’s Next Blockbuster in 2023? Free Fire India Debut: Postponed, But Still on Fire! India’s World Cup 2023 Squad: Key Players, All-Round Strength, and Final Confirmation
National Cinema Day 2023: Grab Your ₹99 Movie Tickets and Rekindle the Magic of the Silver Screen! The Nun II: Unveiling the Haunting Sequel’s Dark Secrets Jawan Movie Review: Shah Rukh Khan’s ‘Jawan’ Early Reviews: Bollywood’s Next Blockbuster in 2023? Free Fire India Debut: Postponed, But Still on Fire! India’s World Cup 2023 Squad: Key Players, All-Round Strength, and Final Confirmation